मिसेस इंडिया इंटरनेशनल सीज़न-3: मूक बधिर बच्चों ने मारी बाजी


कोलकाता,(नि.स)l उन्होंने अपनी ज़िंदगी मे काफी दुःख झेला है. ख्वाब था अभिनेत्री बनने का लेकिन यह तो सबको पता है, महिलाओं के प्रति समाज हमेशा से खुदगर्ज़ रहा है. फिर भी चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर उन्होंने अपनी यात्रा शुरू की. आगे चलकर कई चुनौतियों का सामना करते हुए उन्होंने एंटरटेनमेंट जगत में अपनी पहचान बनाई. लेकिन किस्मत तो देखो, अचानक उनको लकवे का अटैक आया और उन्होंने पूरी तरह से बिस्तर पकड़ लिया. डॉक्टर भी पूरी तरह से जवाब दे चुके थे. सिर्फ और सिर्फ अपनी ज़िद और बुलंद इरादों की वजह से उन्होंने इस बीमारी से निजात पाया. आगे चलकर उन्होंने एक ऐसा मंच प्रस्तुत किया जहां वे नई प्रतिभाओं को कुछ कर दिखाने का सुनहरा मौका देती हैं. जी हां, हम बात कर रहे हैं महानगर की सुप्रसिद्ध मॉडल, अभिनेत्री तथा शो ऑर्गनाइज़र हिना कौसर की. हिना ने कुछ समय पहले ब्यूटी पेजेंट एचके मिस्टर, मिस, मिसेस इंडिया इंटरनेशनल की शुरुआत की थी. और गत रविवार को उन्होंने इसके सीज़न-३ को भी अंजाम दे दिया है. इसी मंच पर वे न जाने कितने ही लोगों का ख्वाब पूरी कर रही हैं, ये तो खुदा ही जानें. और इस बार का शो वाकई कमाल का था. इसमें मूक और बधिर बच्चों ने भी रैम्प पर जलवे बिखेरें. ऊपरोक्त शो में बतौर जज के तौर पर उपस्थित डॉ.आरिफ नसीर बट ने कहा, मैं झारखंड में शोज़ ऑर्गनाइज करते रहता हूँ. लेकिन यहां आकर मुझे महसूस हुआ कि हिना जी ने वाकई एक स्टैंडर्ड सेट किया है, जो काबिल -ए-तारीफ है.


वहीं बांग्लादेश से आये रुहित सुमन ने कहा, पिछले कुछ समय से मैं बांग्लादेश में बच्चों और महिलाओं के उत्थान के लिए काम कर रहा हूं. और जब मुझे पता चला कि भारतवर्ष में हिना कौसर भी कुछ ऐसा ही कर रही हैं, तो मैंने सोचा, क्यों न साथ मिलकर कुछ किया जाये. इसलिए आज मैं यहां उपस्थित हूं.


मैं पूर्व केंद्रीय मंत्री रह चुका हूं, इसलिए ऐसे इवेंट्स जो मनुष्य के हित मे होते हैं, उनको सपोर्ट करने के लिए हमेशा तैयार रहता हूँ. जी हां, कार्यक्रम के दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि ने कुछ ऐसा ही कहा.


दूसरी तरफ मशहूर सिंगर डालिया मित्रा ने कहा, हिना का हमेशा से कुछ करने की जद्दोजहद मुझे यहां खींच लाई है. मुझे वो बेहद पसंद है.


दूसरी तरफ कार्यक्रम में शरीक होने आये बॉलीवुड अभिनेता राजा मुराद ने कहा, यह एक ऐसा ब्यूटी पेजेंट है, जहां किसी भी क्षेत्र से जुड़े लोग इसका हिस्सा बन सकते हैं और टाइटल जीत सकते हैं. उम्र की भी कोई बंदिश नहीं है. और तो और इस शो की ऑर्गनाइज़र हिना कौसर हैं, वे खुद मिसेस एशिया टाइटल विनर रह चुकी हैं.


उन्होंने आगे कहा, सीज़न-3 की सबसे बड़ी खासियत है कि जो बच्चे स्पेशल चाइल्ड कैटेगरी के अंतर्गत आते हैं, उन्हें भी यहां रैम्प पर चलने का मौका दिया गया है. यह अपने आप मे एक बहुत बड़ी बात है. यू कहते हैं, नशा पिलाक़े गिराना तो सबको आता है, मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी.
मुराद ने आगे कहा, देखा गया है कि महिलाएं शादी के बाद यह समझ लेती हैं कि उनकी ज़िंदगी खत्म हो चुकी है. लेकिन हिना उन जैसी महिलाओं को उड़ने के लिए पंख दे रही हैं. हिना की यही जज्बात मुझे भा गई.

Leave a Reply