डॉ. हिरण्मय साहा की नई किताब ’21 शेड्स ऑफ टैगोर’ का विमोचन

मानसिक अवसाद एक शारीरिक समस्या है: डॉ. हिरण्मय साहा

कोलकाता,(नि.स.)l सोमवार को महानगर स्थित प्रेस क्लब में डॉ. हिरण्मय साहा की नई किताब 21 शेड्स ऑफ टैगोर का विमोचन हुआ.

विमोचन के दौरान डॉ.पवित्र सरकार, डॉ. महुआ मुखर्जी, अभिनेता रुद्रप्रसाद सेनगुप्ता, सिंगर इंद्राणी सेन, तृणमूल नेता देबाशीष कुमार सहित कई लोग मौजूद थे.

मौके पर डॉ. हिरण्मय साहा ने कहा, इस किताब में 21 अध्याय हैं. 21 शेड्स ऑफ टैगोर पूरे विश्व में कविगुरु रवींद्रनाथ टैगोर के समय के दिग्गज़ों के साथ टैगोर के सम्बन्धों की बात करता है. सिर्फ इतना ही नहीं टैगोर की वजह से उन लोगों की ज़िंदगी किस तरह से प्रभावित हुई थी, यह भी बयान करेगी यह किताब.

डॉ.हिरण्मय साहा से जब यह पूछा गया कि इस किताब को लिखने के पीछे क्या वजह रही है, के जवाब में उन्होंने कहा, रवींद्रनाथ टैगोर को लेकर हमेशा से ही कुछ ना कुछ करने की इच्छा थी. दरअसल वे काफी बार मानसिक तनाव से गुजरे हैं. लेकिन उनके समय में किसी भी तरह की औषधि नहीं थी. फिर भी वे हर बार ऐसी दुविधाओं से निकलने में कामयाब हुए थे. मैं इसी प्रक्रिया को हर एक मनुष्य के अंदर संचार करने की कोशिश करना चाहता हूँ. मैं यह भी बताना चाहता हूं कि मानसिक अवसाद एक शारीरिक समस्या है, जिससे हर किसी को वाकिफ होने की आवश्यकता है.

आपको बता दें, यह किताब कॉलेज स्ट्रीट मार्केट के अलावा अमेज़ॉन पर उपलब्ध होगी. इस किताब की कीमत 900 रुपये रखी गई है.