विश्व स्ट्रोक दिवस के अवसर पर अपोलो मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल्स कोलकाता ब्रेन स्ट्रोक और ऐसे मरीजों की जान बचाने के प्रति कर रहा जागरूक

कोलकाता, अक्टूबर, 2022: विश्व स्ट्रोक दिवस के अवसर पर अपोलो मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल्स कोलकाता ने ब्रेन स्ट्रोक और इसके मरीजों की जान बचाने के बारे में लोगों को जागरूक किया है। ऐसे लोग जिनमें उच्च रक्त शर्करा (हाई ब्लड शुगर), कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप (बीपी) की समस्या है उनमें ब्रेन स्ट्रोक का खतरा ज्यादा रहता है। पहले जहां 6 में से 1 लोगों को ब्रेन स्ट्रोक होने की संभावना रहती थी, जो बढ़ कर अब 4 में से 1 हो गई है। इस बदलाव का मुख्य कारण लोगों की खराब जीवनशैली और खान-पान की आदतें हैं।

स्ट्रोक होने के 4.5 घंटे के अंदर उपचार शुरू करना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि इसके बाद समस्या गंभीर हो सकती है, जिसमें मरीज के पूरी तरह लकवाग्रस्त होने (पैरालिसिस) या फिर मृत्यु तक की भी संभावना रहती है। स्ट्रोक के रोगियों के लिए गोल्डन ऑवर का नियम बहुत ही महत्वपूर्ण है इसलिए अपोलो मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल्स कोलकाता स्ट्रोक टीम से लैस है जिसमें आपातकालीन चिकित्सक, न्यूरोलॉजिस्ट, न्यूरो-रेडियोलॉजिस्ट और कैथ-लैब टेकनीशियन शामिल हैं, जो अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की तुरंत देखभाल कर सकते हैं। स्ट्रोक के लक्षण देखने पर एक ‘कोड स्ट्रोक’ की जानकारी की जाती है, जो टीम को बगैर किसी देरी के मरीज का इलाज शुरू करने का संकेत देती है। रोगी को तुरंत ही सीटी स्कैन के लिए ले जाया जाता है और फिर उसके बाद आवश्यकतानुसार मेडिकल और क्लिनिकल ट्रीटमेंट ​किया जाता है।

मौके पर उपस्थित डॉ अमिताभ घोष, निदेशक, न्यूरोलॉजी विभाग, अपोलो मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल्स, कोलकाता ने कहा कि “ब्रेन स्ट्रोक दो प्रकार के होते हैं: इस्केमिक स्ट्रोक जिसमें मस्तिष्क के हिस्से में रक्त की आपूर्ति कम हो जाती है, जिसकी वजह से मस्तिष्क के उस हिस्से का ऊतक (टिशू) सामान्य रूप से कार्य नहीं करता।

दूसरा रक्तस्रावी स्ट्रोक है, जिसमें मस्तिष्क के ऊतकों (टिशू), निलय (वेंट्रिकल्स) या दोनों में अचानक रक्तस्राव होता है। दोनों ही मामलों में यह मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाता है क्योंकि यहां रक्त की आपूर्ति नहीं होती है। हालांकि अब बेहतरीन इलाज उपलब्ध है। यदि निश्चित अवधि के अंदर इलाज शुरू किया जाता है, तो मस्तिष्क कोशिका को स्थायी क्षति से रोका जा सकता है। चार में से एक व्यक्ति को किसी भी समय स्ट्रोक की संभावना रहती है और जिसका इलाज न होने पर स्थायी विकलांगता या मृत्यु भी हो सकती है।

डॉ अरिजीत बोस, सीनियर कंसल्टेंट, इमरजेंसी मेडिसिन, अपोलो मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल्स, कोलकाता ने कहा कि “जब भी किसी मरीज को इस्केमिक स्ट्रोक होता है, तो रक्त की आपूर्ति में कमी के कारण मस्तिष्क के ऊतकों के रूप में हर सेकेंड क्षति की आशंका रहती है। प्रत्येक गुजरते समय के साथ मस्तिष्क के ऊतकों की गंभीर क्षति के कारण, तीव्र इस्केमिक स्ट्रोक के लक्षणों को जल्द से जल्द जानना और स्ट्रोक के लिए तैयार निकटतम अस्पताल तक पहुंचना महत्वपूर्ण है।”

डॉ निर्मल्या रे, कंसल्टेंट, इंटरवेंशनल न्यूरो-रेडियोलॉजिस्ट, अपोलो मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल्स, कोलकाता ने कहा कि “पहले स्ट्रोक के उपचार में केवल दवा और फिजियोथेरेपी शामिल थी लेकिन स्वास्थ्य सेवा में होने वाले तकनीकी विकास के साथ अब एंडोवास्कुलर थेरेपी यहां तक ​​कि लार्ज वेसेल ऑक्लूजन को भी कैथ-लैब में संबोधित किया जा सकता है। क्लॉट को यांत्रिक रूप से हटाने की नई तकनीक के आगमन के साथ, यह उपचार लक्षण शुरू होने से कम से कम 6 घंटे तक और यहां तक ​​कि 24 घंटे तक बहुत ही चुनिंदा रोगियों को इस उपचार का लाभ दिया जा सकता है।

इस नए उपचार में रोगी के कमर या कलाई में एक पिन होल के माध्यम से, रोगी के मस्तिष्क में थक्के की जगह तक पहुँचा जाता है और थक्के को या तो खींच कर निकाला जाता है या स्टेंट की मदद से हटा दिया जाता है। प्रक्रिया जितनी जल्दी शुरू की जाती है मरीज के ठीक होने की संभावना उतनी ही अधिक होती है।”

इस अवसर पर उपस्थित, डॉ. सुरिंदर सिंह भाटिया, डीएमएस, अपोलो मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल्स कोलकाता, ने कहा कि “ब्रेन स्ट्रोक के लक्षण काफी गंभीर होते हैं जिसमें संतुलन खोना, सिरदर्द या चक्कर आना, धुंधली दृष्टि, एक तरफ के चेहरे, हाथ या पैर का सही से काम ना करना, कमजोरी, बोलने में कठिनाई शामिल है। स्ट्रोक वाले किसी भी व्यक्ति की पहचान करना आसान है और ऐसी परिस्थिति में उस मरीज को तुरंत ही निकटतम 24 x 7 कैथ लैब समर्थित और न्यूरोलॉजिस्ट और न्यूरो-इंटरवेंशनिस्ट की टीम से लैस स्ट्रोक के लिए तैयार केंद्र में ले जाया जा सकता है। जहां दिल का दौरा एक मरीज की जान ले सकता है, वहीं ब्रेन स्ट्रोक से न सिर्फ एक मरीज की मौत हो सकती है बल्कि इससे जुड़ी विकलांगता के कारण एक परिवार की जान भी जा सकती है। इसलिए जरूरी है कि अपने नजदीकी स्ट्रोक के लिए तैयार केंद्र क बात में जानकारी रखें।”