Trending Story

मिरे एसेट ने भारत में पहली बार दो इंडिया पैसिव ईएसजी फंड लॉन्च किये-मिरे एसेट ईएसजी सेक्टर लीडर्स ईटीएफ और मिरे एसेट ईएसजी सेक्टर लीडर्स फंड ऑफ फंड

एनएफओ 27 अक्टूबर 2020 को खुलेगा;  10 नवंबर, 2020 को बंद होगा मुंबई.2020: इक्विटी और डेट सेगमेंट मे देश के सबसे तेजी से बढ़ते फंड हाउसेज में से एक मिरे एसेट इनवेस्टमेंट मैनेजर्स इंडिया ने आज भारत के पहले ईएसजी ईटीएफ,मिरे एसेट ईएसजी सेक्टर लीडर्स ईटीएफ‘ की शुरुआत का ऐलान किया है, यह एक ओपन एंडेड स्कीम है जो निफ्टी 100 ईएसजी सेक्टर लीडर्स टोटल रिटर्न इंडेक्स का अनुसरण करती है. इसी तरह एक और फंड ‘मिरे एसेट ईएसजी सेक्टर लीडर्स फंड ऑफ फंड‘ की भी शुरुआत की गई है, यह एक ओपन एंडेड फंड ऑफ फंड स्कीम है, जो मुख्यतः मिरे एसेट ईएसजी सेक्टर्स लीडर्स ईटीएफ में निवेश करती है. दोनों फंडों के लिए एनएफओ सब्सक्रिप्शन  27 अक्टूबर, 2020 को खुलेगा और 10 नवंबर, 2020 को बंद होगा.  दोनों फंड का प्रबंधन सुश्री भारती सावंत द्वारा किया जाएगा और इसकी बेंचमार्किंग निफ्टी 100 ईएसजी सेक्टर लीडर्स इंडेक्स (TRI) के समक्ष होगी. ‘मिरे एसेट ईएसजी सेक्टर्स लीडर्स फंड ऑफ फंड‘ निवेशकों को रेगुलर प्लान और डायरेक्ट प्लान का भी विकल्प दे रहा है जिसमें ग्रोथ ऑप्शन और डिविडेंड ऑप्शन (रिटर्न भुगतान और फिर से निवेश करने) का विकल्प दिया जाएगा.  प्रमुख विशेषताएं:  ·         दोनों फंड के द्वारा निफ्टी 100 ईएसजी सेक्टर लीडर्स इंडेक्स को ट्रैक किया जाएगा.  ·         एनएसई का यह नया सूचकांक वास्तव में लेबल ईएसजी फोकस्ड पोर्टफोलियो जैसा ही है, इसके लिए जरूरी रिसर्च सस्टेनएनालिटिक्स द्वारा किया जा रहा है जो कि दुनिया का प्रमुख ईएसजी रिसर्च प्रदाता है.  ·         इस इंडेक्स में ऐसी कंपनियां शामिल हैं, जिन्होंने पर्यावरण, सोशल और शासन (ESG) जैसे कारकों के प्रबंधन में अच्छा मुकाम हासिल किया है.  ·         इस इंडेक्स में वे कंपनियां शामिल नहीं होती जिनका कोई बड़ा विवाद चल रहा हो और इस तरह से इसके साथ जुड़ा कीमत का जोखिम कम हो जाता है.  ·         निफ्टी 100 ईएसजी सेक्टर लीडर इंडेक्स ने निफ्टी 100 से बेहतर प्रदर्शन किया है और निफ्टी 50 सूचकांक में ऐतिहासिक रूप से कीमतों का कम उतारचढ़ाव देखा गया (इसका मतलब यह है कि इसमे जोखिम के मुकाबले रिटर्न बेहतर होता है)  ·         3 साल के निवेश के नजरिये से देखें तो निफ्टी 100 ईएसजी सेक्टर लीडर्स इंडेक्स ने 90 फीसदी से ज्यादा लार्जकैप फंडों (रेगुलर प्लान) के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन किया है.  ·         इसमें तुलनात्मक रूप से सस्ता विकल्प उपलब्ध होता है, जो जिम्मेदार और टिकाऊ बिजनेस मॉडल वाली कंपनियों में निवेश कर आपके धन को आगे बढ़ाने का मौका दे सकता है.मिरे एसेट इनवेस्टमेंट मैनेजर्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ श्री स्वरूप मोहंती ने कहा,वे कंपनियां जो प्लानेट, पीपल और प्रॉफिट (यानी ग्रह, लोगों और मुनाफे) को अपने मुख्य कॉरपोरेट ढांचे में शामिल करती हैं, वे सभी हितधारकों पर एक सकारात्मक असर डाल सकती हैं और दूसरों के मुकाबले प्रतिस्पर्धी रूप से फायदे में होती हैं. यह उन्हें दीर्घकालिक रूप से सतत मुनाफे में रख सकता है. वैश्विक स्तर पर जलवायु परिवर्तन, कुशासन से जुड़े मसले, श्रम अधिकार और डेटा की निजता जैसी चुनौतियों ने निवेशकों को ऐसी कंपनियों की तलाश के लिए मजबूर किया है जो सतत रूप से, सामाजिक जिम्मेदारी के साथ और सदाचारी तरीके से संचालित हो रही हों. पिछले कुछ वर्षों में ईएसजी इनवेस्टिंग वैश्विक बाजारों में काफी लोकप्रिय हुआ है, अपने मूल्य आधारित निवेश दर्शन की वजह से, जिसने अच्छा रिटर्न दिया है और समाज पर सकारात्मक असर डाला है.”  श्री मोहंती ने कहा,मिरे एसेट ईएसजी सेक्टर लीडर्स ईटीएफ और मिरे एसेट ईएसजी सेक्टर लीडर्स फंड ऑफ  फंड्स अब भारतीय निवेशकों को यह अवसर प्रदान करते हैं कि वे ऐसी कंपनियों में निवेश करें जो उनके मुख्य मूल्यों के अनुरूप हों. इन अलग तरह की कंपनियों का उद्देश्य सभी हितधारकों को खुशी देनी होती है, पर्यावरणीय और सुरक्षा के दृष्टिकोण से टिकाऊ रहते हुए और शासन के सर्वश्रेष्ठ दस्तूरों को अपनाते हुए.” दोनों स्कीम में कम से कम 5,000 रुपये का शुरुआती निवेश और इसके बाद इसके गुणक में निवेश किया जा सकता है.