अब बंगाली में भी होगा माइलो एप, क्षेत्रीय भाषाओं पर ज़ोर देने का है प्लान

देश में माइलो एप लगभग 5 मिलियन बार डाउनलोड हो चुका है

कोलकाता, अगस्त 2022: गर्भवती महिलाओं और नयी माँओं का लीडिंग फुल-स्टैक डी2सी प्लेटफॉर्म माइलो एप अब जल्द ही बंगाली भाषा में भी उपलब्ध होगा। कम्पनी ने एप को बंगाली भाषा में लॉन्च करने की घोषणा की है। दरअसल, ऐसा करने के पीछे एप का उद्देश्य उन महिलाओं को व्यक्तिगत अनुभव देना है, जो बंगाली भाषा जानती हैं और अपनी ही भाषा में जानकारी जानना चाहती हैं।

“माइलो कम्युनिटी में मौजूद 10 मिलियन पेरेंट्स की जानकारी के आधार पर हमने एप को क्षेत्रीय भाषा में लॉन्च करने का फ़ैसला लिया है। हमने महसूस किया है कि हमारे यूज़र्स अपनी क्षेत्रीय भाषा में बात करना ज़्यादा पसंद करते हैं। एप को बंगाली भाषा में लॉन्च करना हमारी एक पहल है। जल्द ही हम अन्य भाषाओं में भी एप को लॉन्च करेंगे।” माइलो के फाउंडर और सीईओ विनीत गर्ग ने कहा।

एक अनुमान के अनुसार, इस साल के अंत तक देश में लगभग 840 मिलियन इंटरनेट यूज़र्स होंगे, जिसमें से 90 प्रतिशत यूज़र्स अपनी क्षेत्रीय भाषा में कंटेंट जानना चाहेंगे। इस वर्ज़न से सीखते हुए ही माइलो तमिल और तेलगु समेत अन्य भाषाओं में भी अपने एप को लॉन्च करने का प्लान बना रहा है, ताकि हर माँ अपनी भाषा में सही जानकारी पा सकें।

गर्भवती महिलाओं और नयी माँओं के सफ़र को आसान बनाने के लिए माइलो एक कम्युनिटी फोरम की सुविधा देता है, जहाँ पर समान स्टेज की महिलाएँ सवाल और सुझाव पूछ सकती हैं, और जवाब व अपना अनुभव शेयर करके दूसरी महिलाओं का मार्गदर्शन कर सकती हैं।

एप हर यूज़र को उसके द्वारा चुनी गई प्राथमिकताओं के अनुसार व्यक्तिगत कंटेंट और अनुभव देता है। बेबी वीकली ट्रैकर, पीरियड ट्रैकर, डेली टिप, प्रेग्नेंसी ट्रैकर और पर्सनलाइज्ड डाइट चार्ट समेत अन्य टूल पेरेंट्स के सफ़र को आसान बनाते हैं और उनके बेबी को हेल्दी बनाये रखने में मदद करते हैं। एप पर बेबी, प्रेग्नेंसी, मैटरनिटी, पर्सनल केयर और ब्यूटी से संबंधित 100 प्रोडक्ट्स उपलब्ध हैं।

एप पर माइलो क्लीनिक नाम से बना फ़ीचर- गर्भधारण करने वाली महिलाओं, गर्भवती महिलाओं और यंग माँओं के लिए एक बेहतरीन डिजिटल हेल्थ टूल है, जो उनके हर पड़ाव को मेडिकल प्रोफेशनल्स और एक्सपर्ट ऑनलाइन कंसल्टेशन के ज़रिये आसान बनाता है।

माइलो का मक़सद टेक्नोलॉजी और डाटा से प्राप्त जानकारी के आधार पर महिलाओं और बच्चों के लिए पर्सनलाइज्ड प्रोडक्ट्स उपलब्ध करवाना है। साथ ही, प्रेग्नेंसी, पेरेंटिंग और पीडियाट्रिक्स से संबंधित समस्याओं के लिए बेहतरीन सॉल्यूशन देना है। माइलो की कोशिश है कि वह देश के दूर-दराज के कोने-कोने में बेस्ट हेल्थ सर्विस दे उपलब्ध करवा सकें।

माइलो के बारे में: माइलो गर्भवती महिलाओं और नयी माँओं के लिए एक लीडिंग फुल-स्टैक डी2सी प्लेटफॉर्म है। यह हर पड़ाव पर माँओं की मदद करता है, क्योंकि उन्हीं से परिवार जुड़ा हुआ होता है। एप पर अनुभवी माँओं और एक्सपर्ट की कम्युनिटी और क्यूरेटेड प्रोडक्ट्स उपलब्ध हैं। साथ ही, माँओं के सफ़र को आसान बनाने के लिए इस एप पर हर ज़रूरी जानकारी मौजूद है. कम्युनिटी के फ़ीडबैक के आधार पर माइलो ने पिछले साल माँओं और बच्चों के लिए पर्सनल केयर, प्रीमियम आयुर्वेद और डेली एसेंशिअल्स के प्रोडक्ट्स लॉन्च किये हैं। हाल ही में, माइलो ने माइलो क्लीनिक नाम से एक फ़ीचर लॉन्च किया है, जिसके ज़रिये गर्भवती महिलाएँ और नयी माँएं क्यूरेटेड पैकेज का लाभ उठा सकती हैं। साथ ही, डॉक्टर्स और एक्सपर्ट्स से ऑनलाइन परामर्श कर सकती हैं. माइलो ने हाल ही में सीरीज बी फंडिंग में 17 मिलियन डॉलर जुटाए हैं। माइलो का विजन हर माँ की खुशी को बढ़ाना है और उन्हें एक हेल्दी परिवार बढ़ाने में मदद करना है।

अधिक जानकारी के लिए विजिट करें: https://mylofamily.com